जोधपुर का किला (मेहरानगढ़)

हिन्दू और मुस्लिम स्थापत्य शैलियों का मिला- जुला रूप है। डॉ. जगदीशसिंह गहलोत के अनुसार, “किले की इमारतें ऊँची और सुन्दर बढ़िया खुदाई के काम को, लाल पत्थर की जालियों से सुशोभित हैं।” जालियों के फलस्वरूप इमारतों में पर्याप्त प्रकाश रहता है। कई महलों की दीवारों और छतों पर कलात्मक चित्रकारी की छटा देखने को मिलती है। महलों में मोतीमहल, फूलमहल और फतहमहल अधिक आकर्षक हैं। मोतीमहल का निर्माण महाराजा…

April 4, 2021
Read More >>

मेहरानगढ़ (जोधपुर)

मेहरानगढ़ (जोधपुर)- मारवाड़ के राठौड़ों की नई राजधानी जोधपुर का म नी मेहरानगढ़ दुर्ग राव जोधा ने बनवाया था। पुरानी राजधानी मण्डौर के किले को शत्रुओं की चढ़ाइयों से बेकार देख राव जोधा ने मण्डौर से 6 मील दक्षिण में चिड़ियानाथ की ट्रॅक नामक का एक पृथक् पहाड़ी पर ज्येष्ठ सुदी 11, वि, 1516, शनिवार (12 मई, 1459 ई.) से नया सुदृढ़ किला बनवाना प्रारम्भ किया। इस किले की नींव…

April 4, 2021
Read More >>

चौहान पृथ्वीराज तृतीय (Chowhan Prithvi Raj-III)

647 ई. में हर्षवर्धन की मृत्यु हो गई। उसकी मृत्यु को लेकर 1200 ई. तक का कुछ भारतीय इतिहास में विशेष महत्त्व रखता है। इस काल में उत्तर, दक्षिण और सुदूर दक्षिण अनेक शक्तिशाली राजवंशों का उत्कर्ष और पराभव हुआ। ऐसे राजवंशों में चौहानों का स्थान काफी महत्त्वपूर्ण है। चौहानों ने राजस्थान तथा उसके आस-पास के क्षेत्रों में अपने कई शासन केन्द्र स्थापित कर लिये थे, जिनमें सांभर (शाकम्भरी) अथवा…

April 2, 2021
Read More >>